लोधी वंश

लोधी वंश का इतिहास और उससे संबंधित महत्वपूर्ण जानकारियां, About The King Ibrahim Lodi in Hindi, lodi vansh ka sansthapak kaun hai, About The King Ibrahim Lodi in Hindi, Sikandar Lodi and Bahlul Lod History Hindi me, सिकंदर लोदी का इतिहास.

Lodi vansh ka Sansthapak

लोदी वंश का संस्थापक बहलोल लोदी था। वह 19 अप्रैल 1451 ईसवी को "बहलोल शाह गाजी" की उपाधि से दिल्ली के सिंहासन पर बैठा। दिल्ली पर प्रथम अफगान राज्य की स्थापना का श्रेय बहलोल लोदी को दिया जाता है।   Lodi Vansh

बहलोल लोदी (Bahlul Lodi)

 बहलोल लोदी लोदी वंश का संस्थापक था। बहलोल लोदी बहलोल सिक्के का प्रचलन करवाया था। वह अपने सरदारों को मकसद-ए-अली कह कर पुकारता था तथा वह अपने सरदारों के खड़े रहने पर स्वंय खड़ा रहता था। बहलोल लोदी का पुत्र निजाम खां 17 जुलाई 1489 ईसवी में "सुल्तान सिकंदर शाह" की उपाधि से दिल्ली के सिंहासन पर बैठा। आगरा शहर की स्थापना 1504 ईसवी में सिकंदर लोदी ने ही की थी। Lodi Vansh Bahlul Lodi

Sikandar Lodi

सिकंदर लोदी (Sikandar Lodi)

सिकंदर लोदी लोदी वंश का सर्वश्रेष्ठ शासक था। 150 4 ईसवी में उसने राजस्थान के शासकों पर नियंत्रण रखने तथा व्यापारिक मार्गों की सुरक्षा हेतु आगरा नगर की स्थापना की थी। यहां पर उसने एक किले का भी निर्माण कराया था जो "बादल गढ़ का किला" के नाम से चर्चित था। 1506 ईस्वी में आगरा सिकंदर लोदी की राजधानी घोषित हुई। सिकंदर लोदी ने पैमाइश हेतु "गज-ए सिकंदरी" माप की इकाई प्रारंभ की थी। सिकंदर लोदी "गुलरूखी" के उपनाम से फारसी में कविताएं लिखता था। Lodi Vansh Sikandar Lodi

सिकंदर लोदी के आदेश पर संस्कृत के एक आयुर्वेद ग्रंथ का फारसी में "फरहंगे  सिकंदरी" के नाम से अनुवाद हुआ।सिकंदर लोदी ने नगरकोट के ज्वालामुखी मंदिर की मूर्ति को तोड़कर उसके टुकड़ों को कसाईयों को मांस तौलने के लिए दे दिया था। इससे मुसलमानों को ताजिया निकालने एवं मुसलमान स्त्रियों के पीरों तथा संतो के मजार पर जाने पर प्रतिबंध लगा दिया था। गले की बीमारी के कारण सिकंदर लोदी की मृत्यु 21 नवंबर 1517 ईसवी को हो गई। इसी दिन इसका पुत्र इब्राहिम "इब्राहिम शाह" की उपाधि से आगरा के सिंहासन पर बैठा। 

.

Ibrahim Lodi

इब्राहिम लोदी (Ibrahim Lodi)

इब्राहिम लोदी ने लोहानी, फार्मूली, लोधी जाति के शक्तिशाली सरकारों के दमन की नीति अपनाई फलस्वरूप लोधी साम्राज्य के पतन का पथ प्रशस्त हो गया। इब्राहिम लोदी का राणा सांगा (मेवाड़ के शासक) के साथ "घटोली का युद्ध" हुआ जिसमें इब्राहिम लोदी की पराजय हुई। अप्रैल 1526 में पानीपत के प्रथम युद्ध में बाबर के हाथों इब्राहिम लोदी की पराजय हुई और इस तरह  इब्राहिम लोदी वीरगति को प्राप्त हुआ और लोदी वंश का अंत हो गया। लोदी वंस के पतन के साथ-साथ दिल्ली सल्तनत का भी अंत हो गया। 

Ibrahim Lodi Hindi Me

lodi vansh ka antim shasak kaun tha

 लोदी वंश का अंतिम शासक-

इब्राहिम लोदी लोदी वंश का अंतिम शासक था। लोदी राजवंश एक अफगान राज वंश था जिसने दिल्ली सल्तनत पर 1451 ईस्वी से लेकर 1526 ईस्वी तक शासन किया था। लोदी वंश दिल्ली सल्तनत का अंतिम वंश था। इब्राहिम लोदी सिकंदर लोदी के सबसे छोटा  पुत्र  था जो 1517 ईस्वी में सिकंदर लोदी की मृत्यु के पश्चात लोदी वंश का शासक बना था जिसे बाबर ने 1526 ई. में पानीपत के प्रथम  युध्द मे परास्त किया और मुगल साम्राज्य की नींव रखी। इस तरह से इब्रहिम लोदी युध्द स्थ्ल पर मारा जाने वाला पहला और अंतिम सुल्तान था।