Anyokti Alankar

Anyokti Alankar Sunday 31st of May 2020

Anyokti Alankar, easy examples of Anyokti Alankar in hindi, Anyokti Alankar example in marathi, Anyokti Alankar ki paribhasha udaharan sahit, Anyokti Alankar kise kahte hai, Anyokti Alankar ke bhed अन्योक्ति अलंकार की परिभाषा, भेद, उदाहरण सहित. Anyokti Alankar अन्योक्ति अलंकार किसे कहते हैं। अन्योक्ति अलंकार की परिभाषा, भेद तथा उदाहरण का वर्णन कीजिए। अन्योक्ति अलंकार परिभाषा भेद उदाहरण. अन्योक्ति अलंकार के उदाहरण और परिभाषा

अन्योक्ति अलंकार की परिभाषा

जहां अप्रस्तुत के द्वारा प्रस्तुत का व्यंग्यात्मक कथन किया जाए, वहां  अन्योक्ति अलंकार होता है। 

अन्योक्ति अलंकार के उदाहरण

नहिं पराग नहिं मधुर मधु,
नहिं विकास इहि काल।
अली कली ही सो बध्यो ,
आगे कौन हवाल।

इस पंक्ति में भौरे को प्रताड़ित करने के बहाने कवि ने राजा जयसिंह की काम लोलुपता पर व्यंग किया है। अतएव यहां पर अन्योक्ति अलंकार होगा। 

जिन जिन देखे वे कुसुम,
गई सुवीति बहार।
अब अति रही गुलाब में, 
अपत कटीली डार।।

इस दोहे में अलि (भंवरे) के माध्यम से कवि ने किसी गुणवान अथवा कवि की ओर संकेत किया है जिसका आश्रय दाता अब पतझड़ के गुलाब की तरह पत्र पुष्प हीन  (धन हीन) हो गया है। यहां गुलाब और भंवरे के माध्यम से आश्रित कवि और आश्रय दाता का वर्णन किया गया है। 

.

अन्य अलंकार

१-अनुप्रास अलंकार
२-यमक अलंकार
३-उपमा अलंकार
४-उत्प्रेक्षा अलंकार
५-अतिशयोक्ति अलंकार
६-अन्योक्ति अलंकार
७-श्लेष अलंकार
८-रूपक अलंकार