Anekarthi Shabd अनेकार्थी शब्द

Anekarthi Shabd अनेकार्थी शब्द Saturday 29th of February 2020

Anekarthi Shabd in hindi, अनेकार्थी शब्द, hindi anekarthi shabd, 50 anekarthi shabd in hindi with sentences, patra ka anekarthi shabd, meaning of anekarthi shabd अनेकार्थी शब्द की परिभाषा उदाहरण सहित वर्णन कीजिए. ऐसे शब्द जिनके अनेक अर्थ होते हैं वे अनेकार्थी शब्द कहलाते हैं। ऐसे शब्दों की परीक्षा उपयोगी सामग्री निम्नलिखित है।

Anekarthi Shabd in Hindi

अंकोर -गोद,भेंट,रिश्वत, दुपहरीआदि।
अतिथि- मेहमान, साधु, यात्री, अपरिचित व्यक्ति आदि। 
अर्थ- मतलब, कारण, लिए, भाव, हेतु, अभिप्राय, धन, आशय, प्रयोजन आदि।
अंब-आम का वृक्ष या फल, माता, दुर्गा आदि। 
अरुण- लाल, सूर्य, सूर्य का सारथी, आदि। 
अंक- भाग्य, गिनती के अंक, नाटक के अंक, चिन्ह संख्या, गोद आदि। 
अपेक्षा- इच्छा, आवश्यकता, आशा, आदि। 
अधर- धरती (आकाश के बीच का स्थान), पाताल, नीचा, होंठ आदि।  
अनंत- आकाश, ईश्वर, विष्णु, अंतहीन, शेष नाग आदि। 
 अर्क- सूर्य, आक, इंद्र, ताबा, विष्णु, आसव आदि। 
अधर- धरती (आकाश के बीच का स्थान), पाताल, नीचा, होंठ आदि।  
अंकुर- कोंपल, नोंक, सूजन, रोआँ आदि। 


उदार- दाता, बड़ा, सरल, अनुकूल आदि। 
इंगित- संकेत, अभिप्राय, हिलना-डूलना आदि। 
उग्र- विष, प्रचंड, महादेव आदि। 
उत्तर- उत्तर दिशा, जवाब, हल, अतीत, पिछला, बाद का आदि। 
ईश्वर- परमात्मा, स्वामी, शिव, पारा, पीतल आदि। 
उद्योग- परिश्रम, धंधा, कारखाना आदि। 
इन्द्र- देवराज, राजा, रात्रि आदि। 
इतर- दूसरा, साधारण, नीच आदि।

महत्वपूर्ण अनेकार्थी शब्द

कर- हाथ, टैक्स, किरण, सूँड़ आदि। 
केलि- परिहास, खेल, पृथ्वी आदि।
कला- अंश, किसी कार्य को अच्छी तरह करने का कौशल आदि। 
कंद- शकरकन्द, बादल, मिश्री आदि।
कुशल- खैरियत, चतुर आदि ।
कैरव- कुमुद, कमल, शत्रु, ठग आदि।
कर्ण- कर्ण (नाम), कान। 
कादम्ब- कदम्ब, ईख, बाण, खट्टी मदिरा आदि।
कनक- सोना, धतूरा, पलाश, गेंहूँ आदि।
कर्क- केंकड़ा, आग, एक राशि, आईना, सफेद आदि।
कुल- वंश, सब आदि।
कक्ष- कमरा, काँख, लता, रनिवास, बाजू आदि।
केतु- एक ग्रह, ध्वज, श्रेष्ठ, चमक आदि।
कंकण- कंगन, मंगलसूत्र, विवाह-सूत्र आदि।
कंक- यम, क्षत्रिय, युधिष्ठिर आदि।
कंटक- घड़ियाल, काँटा, दोष आदि।
कोट- परिधान, किला आदि।
कटाक्ष- आक्षेप, तिरछी निगाह, व्यंग्य आदि।
कृष्ण- काला, कन्हैया, वेदव्यास आदि।
काक- कौआ, लँगड़ा आदमी, अतिधृष्ट आदि।
कुंद- भोंथरा, एक मूल आदि।
कृत्स्न- जल, कोख, पेट आदि।
काम- वासना, कामदेव, कार्य, पेशा, धंधा आदि।
केवल- एकमात्र, विशुद्ध ज्ञान आदि।
कल- बीता हुआ दिन, आने वाला दिन, मशीन आदि। 
कलत्र- स्त्री, कमर।
कर्ण- कर्ण (नाम), कान आदि। 
कमल- हिरण, पंकज, ताम्बा, आकाश आदि।
काल- समय, मृत्यु, यमराज आदि।
कोटि- श्रेणी, करोड़, गणना आदि।

खर- दुष्ट, गधा, तिनका, कड़ा, तीक्ष्ण, मोटा, एक राक्षस आदि।
नागर- चतुर, नागरिक, सोंठ आदि।  
खल- दुष्ट, धतूरा, बेहया, धरती, सूर्य, दवा कूटने का खरल आदि। 
निशान- तेज करना, चिह्न, यादगार, पताका आदि। 
गुण- कौशल, शील, रस्सी, स्वभाव, लाभ, विशेषता, धनुष की डोरी आदि।
ताल- लय, एक वृक्ष, झील, हड़ताल आदि। 
गदहा- गधा, मूर्ख, वैद्य आदि। 
जरा- बुढ़ापा, थोड़ा आदि। 
चरण- पग, पंक्ति, पद्य का भाग आदि। 
जंग- युद्ध, लोहे में लगी कार्बनपरत आदि। 
चोटी- शिखर, सिर, वेणी आदि। 
 जड़- मूल, मूर्ख आदि।
चाँद- चन्द्रमा, सिर आदि। 
जलधर- बादल, समुद्र आदि। 
चारा- पशुखाद्य, उपाय आदि।
जौ- वेग, शरिक्त, अन्न विशेष आदि। 
चन्द्र- शशि, कपूर, सोना, सुन्दर आदि।
जयन्त- इन्द्रपुत्र, शिव, चाँद, एक ताल आदि। 
चंचला- लक्ष्मी, स्त्री, बिजली आदि। 
तनु- शरीर, मूर्ति, अल्प, कोमल, पतला आदि। 
ग्रहण- लेना, चन्द्र, सूर्यग्रहण आदि। 
तार्क्ष्य- घोड़ा, गरुड़, सर्प, स्वर्ण, रथ आदि। 
गति- पाल, हालत, चाल, दशा, मोक्ष, पहुँच आदि। 
नाक- नासिका, स्वर्ग, मान आदि। 
गो- बाण, आँख, वज्र, गाय, स्वर्ग, पृथ्वी, सरस्वती, सूर्य, बैल, आदि।
नाग- हाथी, पर्वत, बादल, साँप आदि। 
चक्र- पहिया, चाक, भँवर, समूह, बवंडर आदि।

.

क ख ग घ वर्ण से अनेकार्थी शब्द

कमल- नलिन, पद्म, पंकज, नीरज, सरोज, जलज, जलजात, अरविन्द, उत्पल, अम्भोज, तामरस, पुष्कर, महोत्पल, वनज, कंज, सरसिज, राजीव, शतदल, पुण्डरीक, इन्दीवर।
किरण- गभस्ति,  कर, मयूख, मरीचि, ज्योति, प्रभा, रश्मि, अंशु, अर्चि, गो।
कामदेव- मदन, रतिपति, पुष्पधन्वा, मन्मथ, मनोज, अनंग, आत्मभू, कंदर्प, दर्पक, पंचशर, मनसिज, काम।
कपड़ा- अंशु, कर, अम्बर, परिधान, मयुख, वस्त्र, चीर, वसन, पट।
कुबेर- धनद, धनाधिप, राजराज, कित्ररेश, यक्षराज। 
किस्मत- नियति, भाग्य, होनी, विधि। 
कबूतर- पारावत, कलरव, हारिल, कपोत, रक्तलोचन।
खाना- खाद्यय वस्तु, आहार, भोजन, भोज्य सामग्री। 
खग- अण्डज, शकुनि, पखेरू, पक्षी, द्विज, विहग, नभचर।
खटमल- मत्कुण, खटकीट, खटकीड़ा। 
खर- रासभ, वैशाखनंदन, गधा, गर्दभ, खोता। 
खरगोश- शशक, शशा, खरहा। 
गणेश- विनायक, मूषकवाहन, गजवदन, विघ्रनाशक,गजानन, गौरीनंदन, भवानीनन्दन, विघ्रराज, मोदकप्रिय, मोददाता, गणपति, गणनायक, शंकरसुवन, लम्बोदर, महाकाय, एकदन्त।
गंगा-  विश्नुपगा, देवपगा, ध्रुवनंदा, सुरसरिता, देवनदी, मंदाकिनी, भगीरथी,देवनदी, जाह्नवी, सुरसरि, अमरतरंगिनी, विष्णुपदी, नदीश्वरी, त्रिपथगा।
गज- कूम्भा, मदकल, हाथी, हस्ती, मतंग ।
गाय- गौ, धेनु, सुरभि, भद्रा, दोग्धी, रोहिणी।
गृह- निवास, आगार, आयतन, आलय, घर, सदन, गेह, भवन, धाम, निकेतन,आवास, निलय, मंदिर।
घट- घड़ा, कलश, कुम्भ, निप।
घर- निलय, निवास, भवन, वास, आलय, आवास, गेह, गृह, निकेतन,वास-स्थान, शाला, सदन।
घोड़ा- घोटक, अश्व,तुरंग, हय, घोट।